~साक्षात्कार ~

 

दीक्षित हूँ आशाओं के बीज बोने में
संस्कारित हूँ आनंद वृक्ष  उगाने  में
सुख  के फल खाने और खिलाने में
चुटकी भर स्मित से मन भरमाने में
सुवासित सुहास का नीर बहाने में
नैसर्गिक है …प्रयास नहीं …. सायास नहीं

इसीलिए  …

दुर्लभ थे कपास के फूल जिन्हें
मलमल भी था भाग्य नहीं
रेशम मखमल से सजा दिया
अपने हिस्से का अंजुरी भर सूरज
थोड़े से टिम टिम तारे भी
टांक चांदनी की धड़कन में
उजास भरा उपहार  दिया
 
ओह !! 
ये तो है युगधारा से प्रतिकूल प्रवाह
अतिसाधारण सोच का असाधारण निबाह
फिर से अभी अभी इसी एक क्षण में
रेशम डंक की तीक्ष्ण चुभन
अनायास आकर  जता गयी
लगता है ,लो.फ़िर अनजाने में एक बार
”सत्याचरण मार्ग’से निकल गयी

पर सोचो तो  …. कैसा होगा जीवन

अनिवार्य सांसें और निर्जीव देह
विकलांग विचार और यांत्रिक नेह

ठहरो  …. करती हूँ अपांग जीवन से इनकार

करना है मुझे दर्पण से साक्षात्कार

Advertisements

8 thoughts on “~साक्षात्कार ~

  1. दर्पण सच ही बोलेगा अंजना …कहेगा तुमसे…..जैसी हो वैसी ही रहो …न करो किसी की चिंता ….तुम बाध्य नहीं हो घिसे पिटे मार्गों पर चलने के लिए…अपनी राह बनाओ…अपने सच को बोकर उसकी छाँव का आनंद लो…बाकि सब कुछ छोड़ दो …बहुत सुन्दर लिखा है तुमने …इतनी गहरायी से किसी एहसास को महसूसना और फिर उतनी ही तीव्रता से उसे कह पाना …बहुत मुश्किल होता है ….पता नहीं कैसे कर लेती हो तुम

    Like

  2. bilkul sahi kahaaaa …. saras didi ne agreee , aap jaisi ho waisi hi rho, kisi ki chinta karke swayam chinta magn ho jana apne aap se peecha churana jaisa hai , :)फिर से अभी अभी इसी एक क्षण में
    रेशम डंक की तीक्ष्ण चुभन
    अनायास आकर जता गयी
    लगता है ,लो.फ़िर अनजाने में एक बार …..:) kya kahun or kya likhun….. baut achaaaa bahut zabardast likhti ho aap didi .. please mujhe tution de dijiye. 🙂

    Liked by 1 person

  3. आप यूँ ही संस्कारित बीजो को बोते रहिये ,कल वो पल्लवित होकर फलदार बनेंगे , विपरीत हवाओं के झंझावत से भी लड़ेंगे , युगधारा भी इनके घने और मजबूत तनो से टकराकर नई राह ले लेगी जो मृदुल स्मित और नेह धारा की चरम स्थिति होगी . साधुवाद दी आपको इन गहरे भावो को शब्द देने के लिए .

    Liked by 1 person

  4. दर्पण देखकर जो करता रहता है सुधार , आकर्षक बना रहता वह ताउम्र,
    लेकिन दर्पण दिखाने वाले का भी सुनो ,अपना भी तो ईमान होना चाहिए|

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s